Thursday, September 26, 2013

30th

For her, to whom this day really belongs, 

माँ तो अब भी वैसे ही पालती है हमें 
लोग ये कहते हैं हम आज तीस के हुए

No comments: